Sign in |  Weekly Newsletter |  Personalize RSS Feeds |   News Feeds

भाषा बदलें   Arabic    Chinese    English   Hindi    Japanese    Korean    Persian

  

उपराष्ट्रपति चेनी: ओवल आफ़िस में या हाशिये पर

Published on: December 10th 2006 20:25:54
इराक के अलावा, वर्ष २००८ मे सत्ता छोड़ने से पहले, राष्ट्रपति बुश को ईरान नीति संबधी एहम फ़ैसला करना है। अधिक संभावना यह है कि फ़ैसले का समय अगले वर्ष के मध्य में उस समय ठोस रूप से सामने आयेगा जब कि वार्ताओं का वर्तमान दौर ईरान से अपने परमाणु अस्त्र कार्यक्रम त्यागने का वचन हासिल करने में असफल हो जायेगा। उस समय उपराष्ट्रपति डिक चेनी की भूमिका बड़ी ही एहम होगी। उनका रवैया शत प्रतिशत कड़ा है। वाशिंगटन के विदेश नीति समुदाय में बहुमत के ठीक विपरीत, उन्हें इराक पर किसी प्रकार का पछतावा नहीं है। उनके दफ्तर में इराकी ओसीराक परमाणु संस्थान पर १९८१ मे हमला करने वाले इज़्रायली विमान चालको की उनके हस्ताक्षरों वाली तस्वीर लगी हुई है।  बेकर की सूचना है कि इराक के मामले में चेनी की राय ठीक उनके विपरीत है। चेनी समझते हैं कि ईरान से किसी प्रकार का समझौता बुरे व्यव्हार को प्रश्रय देना है। उनके प्रमुख राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डेविड एडिंगटन और डेविड वर्मसर दोनों ही इज़्रायल के उस तर्क से सहमत है कि ईरान के पास परमाणु अस्त्रों का होना अस्वीकार्य है और, अगर ज़रूरत पड़े तो, उसे सैनिक कार्यवाही द्वारा रोका जाना चाहिये। चेनी, बुश को भी यही समझायेंगे और साथ ही उन्हें संसद के विरोध की अनदेखी करने की भी राय देंगे। हम समझते हैं कि बुश के सलाहकारों में सैनिक कार्यवाही की राय देने वाले चेनी अल्पमत में होंगे लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वे मात खा जायेंगे। जो तर्क वे बुश के सामने पेश करेंगे वह यह होगा कि हमला करना आसान तो नहीं है, बुश इस से सहमत है कि यह आसान काम नहीं है, लेकिन इसके अलावा और कोई विकल्प भी नहीं है। वे यह तर्क  भी देंगे कि ईरान के विरूद्ध सफल कार्यावाही, इराकी असफलता की भरपाई करेगी। वे अभी से सऊदिओं को इस बात का कायल करने में लगे है वे भी बुश को सैनिक कार्यवाही करने की सलाह दें। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि क्या उस समय तक चेनी का प्रभाव निर्णायक रहेगा या नहीं? इस स्थिति को हम अमरीका की परिवर्तनीय ईरान नीति का एक एहम अंग मानते हैं और नियमित रूप से इसके बारे में जानकारी देते रहेंगे।  

मुख्य पृष्ठ | लेख | पिछले अंक | आप के सुझाव | हमारे बारे में | संपर्क | विज्ञापनदाता | Disclaimer