Sign in |  Weekly Newsletter |  Personalize RSS Feeds |   News Feeds

भाषा बदलें   Arabic    Chinese    English   Hindi    Japanese    Korean    Persian

  

परमाणु अस्त्र: संभावित विषय-सूची:

Published on: November 23rd 2008 20:17:18
अमरीकी परमाणु सैनिक-बल की संरचना के भविष्य तथा निश्स्त्रीकरण पर एक बड़े ही अप्रत्याशित ढ़ंग से बहस उभर कर सामने आई है। अपने २८ अक्तूबर के भाषण में प्रतिरक्षा मंत्री वाब गेट्स ने भरोसेमंद बदलाव अस्त्र (आर०आर०डब्लू०) कार्यक्रम की चर्चा तो की ही, इसके साथ ही उन्होंने  नई अमरीकी-रूसी निशस्त्रीकरण वार्ताओं से मिलाप और व्यापक परमाणु निषेध संधि के अनुमोदन का सुझाब भी दिया। आर०आर०डब्लू० का निर्माण सुरक्षा बढ़ाने और परमाणु अस्त्रों के भंड़ारीकरण का ख़र्च घटाने के लिये किया गया है। लेकिन एक लंबे समय तक इस पर राजनीतिक संशयवाद हावी रहा। २००८ के प्रतिरक्षा बजट में इसके लिये धन का प्रावधान नही किहा गया और अब निर्वाचित-राष्ट्रपति ओबामा इसके विरुद्ध हैं। इसके अलावा, आलोचकों का मत है कि बड़े पैमान पर परमाणु अस्त्रों का पुनर्जीवन ईरान को भेजे जाने वाले निशस्त्रीकरण संदेश पर विपरीत प्रभाव डालेगा और चीन को अपने कार्यक्रम के नवीनीकरण के लिये उत्साहित करेगा। फिर भी गेट्स ने कहा कि निश्स्त्रीकरण वार्तायों की नई शुरुआत हो सकती है। उधर रूसी विदेश मंत्री लावारोव ने सामरिक अस्त्र नियंत्रण संधि के बाद आने वाली संधि पर बातचीत करने का संकेत दिया है। ओबामा के इसे तरजीह देने के संकेत के साथ, अमरीका में सी०टी०बी०टी० के अनुमोदन के लिये समर्थन बढ़ रहा है। कुछ विश्लेषक मई २००९ में होने वाली २०१० की परमाणु अप्रसार संधि (एन०पी०टी०) समीक्षा समिति की तैयारी-बैठक की ओर ध्यान दिलाते हें। उनका सुझाव है की सी०टी०बी०टी० को अगले प्रशासन के पहले १०० दिनों की विषय-सूची में शामिल किया जा सकता है। इसको लेकर काफी आशायें हैं।  

मुख्य पृष्ठ | लेख | पिछले अंक | आप के सुझाव | हमारे बारे में | संपर्क | विज्ञापनदाता | Disclaimer