Sign in |  Weekly Newsletter |  Personalize RSS Feeds |   News Feeds

भाषा बदलें   Arabic    Chinese    English   Hindi    Japanese    Korean    Persian

  

अमरीकी गुप्तचरी: कारगर बनाने की १००-दिवसीय योजना

Published on: April 22nd 2007 21:46:02
अपने राष्ट्रीय निदेशक के दो महीनों के कार्यकाल में, जनरल माइक मैकानल ने उन १६ ऐजेंसियों  को आपस में जोड़ने की एक १००-दिवसीय योजना बनाई है जिनसे मिल कर गुप्तचर समुदाय बनता है। यह उन आलोचनाओं का जवाब है जिनमें कहा जा रहा था कि ९/११ से पहले अमरीकी गुप्तचर संस्थायें अपनी जानकारी एक दूसरे से बांटने में कतराती थीं। हम समझते हैं कि इन सुधारों के नतीजे आने शुरू हो गयें हैं। लेकिन यह निश्चित नहीं है कि आया ईरान, वैश्विक आंतकवाद, रूस और चीन जैसे लक्ष्यों पर गुप्तचर जानकारी की गुणवत्ता सुधरी है या नहीं। जैसा कि एक अनुभवि पूर्व वरिष्ठ गुप्तचार अधिकारी ने कहा, निसंदेह, प्रशासनिक समन्वय अच्छी चीज़ है, लेकिन जब तक आपके पास उच्च कोटि की गुप्तचर जानकारी नहीं होगी, आप समन्वय किस बात का करेंगे। सी० आई० ऐ० के अंदर ह्युमिंट यानी गुप्तचर कर्मचारियों से प्राप्त जानकारी, की ज़िम्मेदारी स्टीव कैप्स की है। कैप्स एक ऐसे प्रतिष्ठित अधिकारी हैं जिन्हे रूस और मध्यपूर्व का विशेषज्ञ माना जाता है। हम सुनते हैं कि सी० आई० ऐ० की अधिकांश कार्यवाहियों में लगे अधिकारियों का अनुभव पांच वर्षों से कम है। एक अनुमान के अनुसार, ऐसे अधिकारियों की संख्या ४० प्रतिशत है। भाषाई ज्ञान, विशेष रुप से अरबी और फारसी, का अभाव है। मैकानल, सुरक्षा संबंधी नियमों में ढ़ील देकर, भाषा का ज्ञान रखने वाले पहले पीढ़ी के अमरीकियों की भर्ती तेज़ कर रहे हैं। लेकिन हम समझते हैं कि सुरक्षा प्रक्रियायें और परिचालन संबंधी रुकावटे धीरे धीरे दूर होंगी। लेकिन ईरानी नेतृत्व के फैसले करने की गतिमयता जैसे एहम मुद्दों पर गुप्तचर जानकारी प्राप्त करने में दरपेश कमियां बनी रहने की संभावना है।  

मुख्य पृष्ठ | लेख | पिछले अंक | आप के सुझाव | हमारे बारे में | संपर्क | विज्ञापनदाता | Disclaimer